भारतीय रेलवे ने चीन को दिया एक और झटका, चीनी कंपनी का टेंडर रद्द – Breaking News in Hindi

Breaking News in Hindi – भारत सरकार ने शुक्रवार को चीन को एक और झटका दिया। भारतीय रेलवे ने 44 सेमी-हाई स्पीड वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों के निर्माण के लिए एक निविदा रद्द कर दी, यह टेंडर चीनी कम्पनी की तरफ से जमा किया गया था।

Breaking News in Hindi, Railway canceled the tender with the Chinese company

Breaking News in Hindi, Railway canceled the tender with the Chinese company

रेल मंत्रालय ने ट्वीट कर कहा – सेमी हाई-स्पीड ट्रेन सेट (वंदे भारत) के 44 कोचों के निर्माण का टेंडर रद्द कर दिया गया है। संशोधित सार्वजनिक खरीद (वरीयता मेक इन इंडिया) आदेश के अनुसार एक सप्ताह के भीतर नए सिरे से निविदा जारी की जाएगी।

पिछले महीने जब निविदा खोली गई थी तो चीनी संयुक्त उद्यम फर्म एक मात्रा विदेशी कम्पनी थी, जिसने 44 ट्रेन सेटों के लिए बिजली के उपकरण और अन्य वस्तुओं की आपूर्ति के साथ अतिरिक्त 16 कोचों की आपूर्ति के लिए एकमात्र विदेशी कम्पनी थी।

चीनी संयुक्त उद्यम फर्म CRRC Pioneer Electric (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड चीन की CRRC योंगजी इलेक्ट्रिक कंपनी लिमिटेड और गुरुग्राम स्थित पायनियर फिल-मेड प्राइवेट लिमिटेड के बीच एक जॉइंट वेंचर है।

इस टेंडर में ये भारतीय कंपनियाँ शामिल थी – दिल्ली स्थित भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (BHEL), संगरूर की भारत इंडस्ट्रीज, नवी मुंबई स्थित पॉवरनेटिक्स इक्विपमेंट प्राइवेट लिमिटेड, हैदराबाद स्थित मेधा ग्रुप, परवाणू में इलेक्ट्रोवेव्स इलेक्ट्रॉनिक प्राइवेट लिमिटेड।

CRRC योंगजी इलेक्ट्रिक कंपनी लिमिटेड पूरी तरह से चीनी सरकार के स्वामित्व में है।

हालांकि राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर रेलवे ने निविदा रद्द करने के पीछे का कारण नहीं बताया, लेकिन यह निर्णय पूर्वी लद्दाख में चीन और भारत के बीच एक कड़वाहट की पृष्ठभूमि के कारण हो सकता है।

Read More Breaking News in Hindi

इससे पहले भारतीय रेलवे ने एक चीनी कंपनी द्वारा कानपुर-दीन दयाल उपाध्याय (डीडीयू) अनुभाग पर 417 किलोमीटर की दूरी के लिए सिग्नलिंग और दूरसंचार कार्य की 471 करोड़ रुपये की परियोजना को रद्द कर दिया था।

भारतीय विक्रेताओं द्वारा चीनी कम्पनीज के पक्ष में बोली दस्तावेज की शिकायत के बाद रेल्वे ने थर्मल स्क्रीनिंग कैमरों के लिए एक निविदा भी रद्द कर दी थी।

Read More Hindi News

अधिकारियों ने कहा कि पहली ट्रेन-18 के निर्माण की लागत 100 करोड़ रुपये थी, जिसे पिछले साल 100 करोड़ रुपये की लागत से लॉन्च किया गया था। जिसमें से 35 करोड़ रुपये केवल प्रणोदन प्रणाली (propulsion system) के लिए थे, वर्तमान में ऐसी 44 किटों की कीमत 1,500 करोड़ रु से अधिक होगी।

Breaking News in Hindi, Timesofmp, mptimes, timesmp, Hindi News, Railway Canceled Chinese Company Tender