Corona Vaccine सबसे पहले किसे लगाई जाएगी? कोरोना वैक्सीन किसे मिलेगी /≈Corona Vaccine Sabse Pahle Kise Milegi? Corona Vaccine Registration कैसे करें? यह सब सवाल आज कल हम सभी के मन में आ रहे हैं। आइए इस पोस्ट के माध्यम से हम आपके इन सभी सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे।

Contents show

बहुत से लोग यही जानना चाहते हैं की कोरोना वैक्सीन के लिए रेजिस्ट्रेशन (Corona vaccine Registartion) कैसे करवाएँ? ऐसे सभी सवालों के जवाब इस पोस्ट में आपको मिल जाएँगे।

Corona Vaccine Registration aur kaise lagegi
Corona Vaccine Registration aur kaise lagegi

भारत के ड्रग रेगुलेटर ने ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन कोविशिल्ड (Oxford Corona Vaccine Covishield) को मंजूरी दे दी है, जो सीरम इंस्टीट्यूट (Serum Institute) द्वारा निर्मित की जा रही है। इसके साथ ही देश में आपातकालीन उपयोग के लिए भारत बायोटेक (Bharat Biotech) के स्वदेशी तौर पर विकसित कोवैक्सीन (Covaxin /≈CoVaccine) को भी मंज़ूरी दे दी गई है। इससे आने वाले दिनों में भारत में इन दो टीकों के द्वारा कोरोना का टीकाकरण (Corona Vaccination India) शुरू होने की उम्मीद है।

कृपया ध्यान दें : अगर आप चाहते हैं की ऐसी जानकारी हिंदी में आपको मिले और Times of MP काम जारी रखे, तो कृपया दिखाई देने वाले किसी एक प्रचार (Advertisement) को क्लिक करके हमें सपोर्ट करें। साथ ही अपने दोस्तों के साथ इस पोस्ट को ज़रूर शेयर करें।

ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया के वीजी सोमानी ने कहा कि एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड वैक्सीन की कुल प्रभावकारिता 70.42 फीसदी है, जबकि भारत बायोटेक का COVaxin सुरक्षित और मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया प्रदान करता है।

इसे भी पढ़ें :   ब्रोकोली, ब्रसेल्स स्प्राउट्स और गोभी आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी हैं

शनिवार को भारत के राज्यों के और केंद्र शासित प्रदेशों में आयोजित इनोक्यूलेशन ड्राई रन (noculation dry run) के साथ बड़े पैमाने पर कोरोनो वायरस टीकाकरण अभियान (coronavirus vaccination drive) को मंजूरी मिल चुकी है।

भारत की कोरोना टीकाकरण प्रक्रिया (India’s Corona Vaccination Process)

आइए अब हम आपको भारत यानी दुनिया के सबसे बड़े कोरोना टीकाकरण प्रक्रिया (Corona Vaccination Process) के बारे में पूरी जानकारी देते हैं।

कोरोना का टीका सबसे पहले किसे मिलेगा? /≈Who will get the Corona vaccine first

भारत में कोरोना वैक्सीन का टीका सबसे पहले उन लोगों को दिया जाएगा, जिनमे कोरोना का सबसे ज़्यादा ख़तरा है। इस लिस्ट में निम्न लोग शामिल किए गए हैं :

  • Healthcare workers : Public और private सेक्टर के सभी हेल्थकेयर वर्कर यानी स्वास्थ्य कार्यकर्ता।
  • Municipal & Frontline Workers (नगरपालिका और सीमावर्ती कार्यकर्ता)
  • Population above 50 years of age (50 वर्ष से अधिक आयु की जनसंख्या)
  • Areas with high Corona infection (उच्च कोरोना संक्रमण वाले क्षेत्र के लोग)
  • इन सभी को कोरोना वैक्सीन लगने के बाद सबसे लास्ट में बाक़ी शेष जनसंख्या (Remaining population) को कोरोना वैक्सीन लगाई जाएगी।

Healthcare workers : Public और private सेक्टर के सभी हेल्थकेयर वर्कर यानी स्वास्थ्य कार्यकर्ता।

Corona (NEGVAC) के लिए वैक्सीन प्रशासन (Vaccine Administration) पर राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह (National Expert Group) की सिफारिश के अनुसार, Corona का टीका पहले सरकारी और निजी दोनों अस्पतालों में काम करने वाले लगभग एक करोड़ स्वास्थ्य कर्मचारियों को दिया जाएगा।

इन स्वास्थ्य सेवा श्रमिकों को आगे उप-श्रेणियों में विभाजित किया गया है – फ्रंटलाइन स्वास्थ्य और एकीकृत बाल विकास सेवा (ICDS) कार्यकर्ता, नर्स और पर्यवेक्षक, चिकित्सा अधिकारी, पैरामेडिकल स्टाफ, सहायक कर्मचारी और छात्र।

इसके लिए डेटा को सरकारी और निजी स्वास्थ्य सुविधाओं से एकत्र किया गया है और CoWIN में फ़ीड किया जा रहा है, जो टीकाकरण अभियान को पूरा करने के लिए एक डिजिटल प्लेटफॉर्म है।

Municipal & Frontline Workers (नगरपालिका और सीमावर्ती कार्यकर्ता)

दूसरा नम्बर आता है – राज्य और केंद्रीय पुलिस विभाग, सशस्त्र बलों, होमगार्ड, आपदा प्रबंधन और नागरिक सुरक्षा संगठन, जेल कर्मचारियों, नगरपालिका के श्रमिकों और राजस्व अधिकारियों से जुड़े लगभग दो करोड़ फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं जो नियंत्रण, निगरानी और संबद्ध गतिविधियों में संलग्न हैं, को कोरोना का टीका लगाया जाएगा.

राज्य सरकार और रक्षा, गृह, आवास और शहरी मामलों के मंत्रालयों से जुड़े श्रमिकों को भी कोरोना टीकाकरण के इस चरण में सम्मिलित किया गया है।

इसे भी पढ़ें :   नीम का तेल मुँहासे और अन्य त्वचा समस्याओं के लिए क्यों सबसे अच्छा इलाज है? जानिए इसके 5 कारण - Neem oil for skin

Population above 50 years of age (50 वर्ष से अधिक आयु की जनसंख्या)

50 वर्ष से अधिक आयु की जनसंख्या को दो समूह की उप-श्रेणियों में विभाजित किया गया है :- 50 से 60 वर्ष वाले लोग और 60 की आयु से ऊपर के लोग।

इस श्रेणी के कोरोना टीकाकरण अभियान के लिए आबादी की पहचान करने के लिए लोकसभा और विधान सभा चुनावों के लिए नवीनतम मतदाता सूची का उपयोग किया जाएगा।

Areas with high Corona infection (उच्च कोरोना संक्रमण वाले क्षेत्र के लोग)

इसके बाद भारत के उन क्षेत्रों में रहने वाले लोग जहाँ अभी भी कोरोना का संक्रमण बहुत ज़्यादा है, उनको कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) लगाई जाएगी। यह क्षेत्र NEGVAC द्वारा तय किए जाएँगे, और उसी के आधार पर टीकाकरण होगा।

इन सभी को कोरोना वैक्सीन लगने के बाद सबसे लास्ट में बाक़ी शेष जनसंख्या (Remaining population) को कोरोना वैक्सीन लगाई जाएगी।

कोरोना टीकाकरण की प्राथमिकता सूची में शामिल लोगों को कवर करने के बाद शेष आबादी को टीका लगाया जाएगा। यहां टीकाकरण (Indian Corona Vaccination) रोग महामारी विज्ञान (Disease Epidemiology) और वैक्सीन की उपलब्धता (Vaccine Availability) पर निर्भर करेगा।

टीकाकरण सत्र स्थल पर भीड़भाड़ से बचने के लिए, लाभार्थियों को वैक्सीन छोटे-छोटे समूहों यानी लोकल एरिया में दी जा सकती है।

कोरोना टीकाकरण के लिए पंजीकरण कैसे करें /≈Corona Vaccine ke Liye Registration kaise Karen /≈Corona Vaccine Registration

हम सभी के मन में अब सवाल उठ रहा है की कोरोना टीकाकरण के लिए पंजीकरण कैसे करें /≈Corona Vaccine ke Liye Registration kaise Karen /≈Corona Vaccine Registration. आइए अब हम आपको Corona Vaccine Registration के बारे में पूरी जानकारी देते हैं।

कुछ दिनों बाद सरकार की तरफ़ से Corona Vaccine के टीकाकरण के लिए Self Module या Website या App उपलब्ध कराया जाएगा। जिसके द्वारा सभी लोग Corona Vaccine के लिए Registration करवा सकें। यह कैसे होगा आइए जानते हैं :

  • CoWIN Website open करें और Corona Vaccine Register Now पर क्लिक करें।
  • सरकारी पहचान पत्र जिसमें फोटो लगी को अपलोड करें या आधार प्रमाणीकरण करें। प्रमाणीकरण बायोमेट्रिक्स, ओटीपी या जनसांख्यिकीय के माध्यम से हो सकता है।
  • एक बार पंजीकृत होने के बाद, टीकाकरण के लिए एक तारीख और समय आवंटित किया जाएगा।
  • टीकाकरण साइट पर तुरंत कोई पंजीकरण नहीं होगा और केवल पूर्व पंजीकृत लाभार्थियों को टीकाकरण के लिए आगे बढ़ने की अनुमति दी जाएगी।
  • इस प्रणाली में कोरोना वैक्सिनेशन के सत्र प्रबंधन के लिए जिला प्रशासन जिम्मेदार होगा। वे सत्र और साइट आवंटन के लिए लाभार्थियों को मंजूरी देंगे। इसके लिए CoWIN Website में एक इनबिल्ट मॉनिटरिंग और रिपोर्टिंग तंत्र होगा।
इसे भी पढ़ें :   क्या मच्छर कोरोना के वाहक हो सकते हैं ? जानिए मच्छरों से किसी को कोरोना हो सकता है या नही?

टीका कहां लगाएँ जाएँगे /≈Where will you get Corona Vaccine?

वैक्सीन साइटों को विभिन्न प्राथमिकता समूहों के आधार पर विभाजित किया गया है, जिसके बारे में नीचे जानकरी दी गई है। इसके लिए 3 समूह बनाए गए हैं:

  • निश्चित सत्र स्थल
  • आउटरीच सत्र साइट
  • विशेष मोबाइल टीमें

निश्चित सत्र स्थल (Fixed session site)

कोरोना का टीकाकरण के लिए सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों के जहां या तो एक चिकित्सा अधिकारी या एक चिकित्सक उपलब्ध है, एक निश्चित सत्र स्थल के रूप में परिभाषित किया गया है।

आउटरीच सत्र साइट (Outreach session site)

स्वास्थ्य सुविधाओं के अलावा कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण के लिए अन्य साइट्स जैसे स्कूल, कम्युनिटी हॉल आदि को इस समूह में शामिल किया गया है।

विशेष मोबाइल टीमें (Special mobile teams)

दूर-दराज़ के क्षेत्रों जैसे गावों इत्यादि के लिए या कठिन-से-पहुंच वाले क्षेत्रों, प्रवासी आबादी क्षेत्रों और अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं वाले क्षेत्रों के लिए है, विशेष मोबाइल टीमें (Special mobile teams) बनाइ जाएगी। इनकी ज़िम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी।

टीकाकरण प्रक्रिया क्या होगी? /≈Vaccination Process

टीकाकरण प्रक्रिया के लिए तीन सीमांकित कमरे और क्षेत्र होंगे जिनके बारे में नीचे बताया गया है:

  • प्रतीक्षालय – जहां टीका लगाने से पहले कोई प्रतीक्षा करेगा।
  • टीकाकरण कक्ष – जहाँ वैक्सीन लगाई जाएगी
  • अवलोकन कक्ष – जहाँ वैक्सीन लगाने के बाद लगवाने वाले व्यक्ति को 30 मिनट तक रहना होगा।

मुझे कोरोना का टीका कौन लगाएगा ? /≈ Who will give me Corona Vaccine?

किसी को भी कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) लगाने के लिए एक पांच सदस्यीय टीकाकरण टीम को प्रक्रिया सौंपी जाएगी, जिसमें निम्न अधिकारी और स्वास्थ्य कार्यकर्ता शामिल किए जाएँगे :

  • टीकाकरण अधिकारी 1: पंजीकरण की जांच का ज़िम्मा इसी अधिकारी के पास होगा।
  • टीकाकरण अधिकारी 2: प्रमाणीकरण का काम करेगा।
  • टीकाकरण अधिकारी 3: टीका देने का प्रभारी। चूंकि यह एक इंट्रामस्क्युलर वैक्सीन है, इसलिए एक प्रशिक्षित पेशेवर ही कोरोना वैक्सीन लगाएगा।
  • टीकाकरण अधिकारी 4 और 5: इनके द्वारा भीड़ प्रबंधन किया जाएगा और किसी व्यक्ति को कोरोना का टीका लगाने के बाद 30 मिनट का अवलोकन इन्ही के ज़िम्मेदारी होगी।