Hindi News – भारत के अपने स्वदेशी लड़ाकू विमान (LCA) कार्यक्रम के लिए कल का दिन एक महत्वपूर्ण उपलब्धि में शामिल हो गया। जब भारतीय वायु सेना (IAF) ने पाकिस्तान सीमा पर पश्चिमी सीमा पर स्वदेशी हल्के लड़ाकू विमान (LCA) तेजस को तैनात किया।

Hindi News, Indian Fighter Jet Tejas latest News

Hindi News, Indian Fighter Jet Tejas latest News

लद्दाख में चीन के साथ तनाव के मद्देनजर यह तैनाती महत्वपूर्ण मानी जा रही है, जहाँ भारतीय सेना चीन के सामने डटी हुई है, वही पाकिस्तान बॉर्डर पर भी सुरक्षा में कोई कमी नही आने दी जा रही। सरकारी सूत्रों ने एएनआई को बताया – “LCA तेजस को भारतीय वायु सेना द्वारा पाकिस्तान सीमा के पास पश्चिमी सीमा पर तैनात किया गया है।”

सूत्रों ने कहा कि दक्षिणी वायु कमान के तहत सुलूर से बाहर स्थित पहला एलसीए तेजस स्क्वाड्रन – 45 स्क्वाड्रन (फ्लाइंग डैगर्स) को एक ऑपरेशनल भूमिका में तैनात किया गया है।

स्वदेशी तेजस विमान की प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा स्वतंत्रता दिवस के भाषण के दौरान प्रशंसा की गई थी जहाँ उन्होंने कहा था कि LCA Mark1A संस्करण को खरीदने का सौदा जल्द ही पूरा होने की उम्मीद है।

विमानों का पहला स्क्वाड्रन इनिशियल ऑपरेशनल क्लीयरेंस संस्करण का है, वहीं दूसरा 18 स्क्वाड्रन ‘फ्लाइंग बुलेट्स’ अंतिम ऑपरेशनल क्लीयरेंस संस्करण का है और इसका संचालन 27 मई को सलूर एयरबेस में वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने किया था।

भारतीय वायु सेना और रक्षा मंत्रालय को इस वर्ष के अंत तक 83 Mark1A विमानों के लिए सौदे को अंतिम रूप देने की उम्मीद है। सीमाओं पर चीनी आक्रमण के मद्देनजर, भारतीय वायुसेना ने अपने फ़ाइटर विमान और लड़ाकू हेलिकॉप्टर को चीन और पाकिस्तान दोनों सीमाओं पर तैनात किया है।

Airforce के फॉरवर्ड एयरबेसों को पश्चिमी और उत्तरी मोर्चों पर स्थितियों की देखभाल करने के लिए पूरी तरह से तैयार रखा गया है, जिससे हाल के दिनों में Air force बहुत ज़्यादा उड़ान भर रही है जिसमें दिन और रात के संचालन दोनों शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें : भारत चीन पर फिर से नए प्रतिबंध लगाने वाला है, सरकार सेना के इस्तेमाल पर विचार कर रही है – Hindi News

आपको बता दें की Tejas fighter jets भारत में निर्मित एक स्वदेशी लड़ाकू जहाज (Fighter Jet) है, यह अपनी Category में दुनिया का सबसे हल्का लड़ाकू जहाज है। LCA Tejas का निर्माण HAL द्वारा किया जा रहा है। अभी तक LCA का First Version Indian Airforce की सेवा में हैं, जल्द ही LCA MK 1A को भारतीय वायु सेना में शामिल किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें : Big Boss 14: पावित्रा पुनिया ने सलमान खान के शो Big Boss के इस सीजन में भाग लेने के लिए बालवीर रिटर्न्स को छोड़ दिया – Bollywood news in Hindi

HAL कम्पनी ने Tejas का MK-1A Version भी बना कर complete कर चुकी है, साथ ही यह टेस्टिंग के कई फेज भी पास कर चुका है। रक्षा मंत्रालय और वायु सेना कि तरफ़ से Tejas MK 1A को Final मंजूरी मिलते ही यह वायुसेना भी शामिल कर लिया जाएगा। साथ ही सरकार और HAL के बीच इस लड़ाकू जहाज़ की क़ीमत को लेकर भी बात की जा रही है।

इसे भी पढ़ें : बंगाल में बम बनाते समय टीएमसी कार्यकर्ता की मौत, पार्टी ने लिंक से किया इनकार : Breaking News in Hindi

आपको बात दें की पिछले साल जब भारतीय वायु सेना की टीम ने Tejas को UAE के Air Defence Show में ले गई थी, तो चीन और पाकिस्तान ने अपने लड़ाकू जहाज को भेजने से अंतिम समय में मना कर दिया था। मिली सूचना के अनुसार इसके पीछे का कारण पहले चीन और पाकिस्तान, भारत में बने Tejas से अपना compare करते थे। लेकिन जब उनको इसकी खूबी पता चली तो उन्होंने अपने लड़ाकू जहाज़ को नही भेजा।

इसे भी पढ़ें : केरल जेल के 363 कैदी कोरोना पॉजिटिव, राज्य में कोरोना के मामले 44 हजार के पार – Breaking News in Hindi

फिर भी आपको बताना ज़रूरी है की भले ही आज के समय में स्वदेशी लड़ाकू जहाज Tejas के बारे में अच्छी ख़बरें मिल रही हों लेकिन इसके पीछे का अतीत भी बहुत बड़ा है, Tejas प्रोजेक्ट 30 साल पहले शुरू किया गया था, इतने सालों बाद अब जाकर भारत का अपना स्वदेशी Fighter Jet तैयार हो पाया है।

Tejas fighter jetsHindi News, Times of MP, Timesofmp.com, mptimes, mptimes.com, timesmp.com, timesmp, Airforce, Tejas