Master Movie लोकेश कनगराज द्वारा निर्देशित 2021 की भारतीय तमिल-भाषा की एक्शन थ्रिलर फिल्म है। निर्देशक लोकेश कनगराज ने रत्ना कुमार और पॉन पार्थिबन के साथ मिलकर Master Film की पटकथा भी लिखी है। Master Movie में विजय और विजय सेतुपति के साथ मालविका मोहनन, अर्जुन दास, एंड्रिया जेरेमिया और शांतनु भाग्यराज जैसे कलाकार हैं। यह फिल्म एक शराबी प्रोफेसर यानी जेडी (विजय) के इर्द-गिर्द घूमती है। जेडी (विजय) एक किशोर गृह (Juvenile Home) में तीन महीने का शिक्षण का कार्य करता है, इस किशोर गृह का नियंत्रण नापाक भवानी (सेतुपति) करता है।

Master Movie की शूटिंग अगस्त 2019 में शुरू कर दी गई थी, जबकि इसकी प्रमुख फोटोग्राफी अक्टूबर 2019 में शुरू हुई और फरवरी 2020 में समाप्त हुई। Vijay अभिनीत Master Movie का फिल्मांकन दिल्ली, चेन्नई और कर्नाटक में हुआ है। इसका संगीत अनिरुद्ध रविचंदर द्वारा रचा गया है, जबकि छायांकन और संपादन क्रमशः सत्यन सोर्यन और फिलोमिन राज द्वारा किया गया है। Vijay की इस फिल्म को Master Movie के नाम से रिलीज़ किया गया है, लेकिन इसको अस्थायी शीर्षक थालापैथी 64 (Thalapathy 64) के तहत शुरू किया गया था, कुछ समय बाद यानी 31 दिसंबर 2019 को इस फिल्म के आधिकारिक शीर्षक मास्टर (Master) की घोषणा की गई थी।

master movie, vijay the master movie
master movie, vijay the master movie

Master को शुरू में 9 अप्रैल 2020 को सिनेमाघरों में रिलीज करने की योजना बनाई गई थी, लेकिन भारत और दुनियाभर में Covid-19 महामारी के कारण इसको स्थगित कर दिया गया था। इसके बाद Master Movie के निर्माताओं ने इसे किसी भी ओवर-द-टॉप मीडिया सर्विस (OTT Platform) पर रिलीज़ करने के बजाय, कोरोना महामारी के प्रकोप कम होने का इंतेज़ार किया ताकि इस फिल्म को सिनेमाघरों में रिलीज़ किया जा सके।

आख़िरकार कई महीनों की देरी के बाद, फिल्म पोंगल से एक दिन पहले यानी 13 जनवरी 2021 को सिनेमाघरों में रिलीज हुई। क्रिटिक्स से मिश्रित और संतुलित समीक्षा प्राप्त करने के बावजूद, Master Movie ने विदेशी बॉक्स ऑफिस पर 2021 की सबसे अधिक कमाई वाली फिल्म बन गई, साथ ही यह उपलब्धि हासिल करने वाली पहली भारतीय फिल्म बन गई।

Master Movie Overview

निर्देशक लोकेश कनगराज
निर्माता जेवियर ब्रिटो
पटकथा लेखक लोकेश कनगराज,
रथना कुमार,
पोन पार्थिबन
कहानी लेखक लोकेश कनगराज
मुख्य अभिनेता विजय और विजय सेतुपति
संगीत अनिरुद्ध रविचंदर
छायांकन (Cinematography) सथ्यन सोरियन
संपादक फिलोमिन राज
प्रोड्यूसर कंपनी XB Film Creators
डिस्ट्रिब्युटर कंपनी Seven Screen Studios
रिलीज़ की तारीख 13 जनवरी 2021
रनिंग टाइम 179 मिनट
देश भारत
मुख्य भाषा तमिल
डब भाषाएँ हिंदी, तेलुगु, English
बजट 135 करोड़
बॉक्स ऑफिस कलेक्शन ₹ 220 करोड़ (अभी जारी है)

Master Movie Release Date

Master Movie 13 जनवरी 2021 को पोंगल से एक दिन पहले, तमिलनाडु के 1000 से अधिक सिनेमाघरों में रिलीज़ किया गया था। इसे मूल रूप से 9 अप्रैल 2020 को रिलीज़ किया जाना था, लेकिन भारत में COVID-19 महामारी के कारण Master Movie Release Date को आगे बढ़ा दिया गया था।

भारत में COVID-19 लॉकडाउन के कारण Master Movie को रिलीज़ करने में कई महीनों तक देरी हुई। 28 नवंबर 2020 को, निर्माताओं ने एक प्रेस बयान जारी करके बताया था कि इस फिल्म को किसी भी ओवर-द-टॉप मीडिया सर्विस (OTT Platform) पर रिलीज़ नही किया जाएगा, इसको सिर्फ़ और सिर्फ़ सिनेमाघरों में रिलीज़ किया जाएगा। Master Movie को सिनेमाघरों में रिलीज़ करने का निर्णय महत्वपूर्ण था, क्योंकि कोरोना की वजह से फिल्म उद्योग का पुनरुद्धार इसी फिल्म से शुरू हुआ है। महामारी के कारण सिनेमाघरों को अभूतपूर्व नुकसान हुआ था।

दिसंबर 2020 में, निर्माताओं ने आधिकारिक तौर पर घोषणा की थी कि – Master Movie, 13 जनवरी 2021 को सिनेमाघरों में रिलीज़ होगी। इसके अतिरिक्त, फिल्म के डब संस्करणों को तेलुगु, कन्नड़ और मलयालम में भी एक साथ रिलीज़ किया जाएगा। फिल्म की अग्रिम बुकिंग 7 जनवरी से पूरे तमिलनाडु के कुछ सीमित सिनेमाघरों में शुरू हुई थी। Master Movie Telugu Dubbed को आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के 600 सिनेमाघरों में रिलीज़ किया गया था।

उत्तर भारत में Master Movie Hindi Dubbed की मांग के कारण, फिल्म निर्माताओं ने आधिकारिक रूप से इसके Hindi Dubbed Master Movie को Vijay The Master नाम से रिलीज़ करने की घोषणा की, जो 14 जनवरी 2021 को रिलीज़ की गई थी।

उत्तर भारतीय सिनेमाघरों (राजस्थान, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और पूर्वी पंजाब) में Master Movie को Tamil,Telugu और Hindi Dubbed में रिलीज़ करने के लिए के लिए अतिरिक्त 500 स्क्रीन मिल चुकी हैं। फ़िल्म के डिजिटल अधिकार Amazon Prime Video द्वारा अधिग्रहित किए गए हैं। Master Movie को Amazon Prime Video में 21 जनवरी 2021 को प्रीमियर किया जाएगा।

Master Movie Story – मास्टर फिल्म की कहानी

Master Movie Story (मास्टर फिल्म की कहानी) : एक युवा भवानी देखता है कि उसके परिवार को उसके पिता के प्रतिद्वंद्वियों द्वारा जला दिया गया है। फिर उस युवा भवानी को उनके द्वारा एक किशोर जेल में कैद कर लिया जाता है और जानबूझकर प्रताड़ित किया जाता है। भवानी अंततः बच निकलता है। इसके बाद वह अन्य अपराधियों के साथ ट्रक ड्राइवरों से धन उगाही करके अपना आगे का रास्ता बनाता है। वह किशोर गृह के बच्चों को अपनी आपराधिक गतिविधियों के लिए दोष लेने के लिए मजबूर करता है। वह अंततः उन पुरुषों से बदला लेता है और उन्हें मौत के घाट उतार देता है, जिन्होंने उसके परिवार की हत्या की थी।

इसके बाद Master Movie Story कुछ ऐसे आगे बढ़ती है : चेन्नई में, जॉन ‘जेडी’ दुरईराज एक शराबी कॉलेज के प्रोफेसर हैं जिनकी लोकप्रियता और छात्रों के हितों के लिए समर्थन अक्सर उन्हें कॉलेज प्राधिकरण के साथ परेशानी में डाल देता है। अन्य प्रोफेसरों के साथ उनका रिश्ता बिगड़ता है। इसके बाद उन्हें भवानी द्वारा नियंत्रित किशोर केंद्र में नए शिक्षक के रूप में हस्ताक्षरित किया जाता है, लेकिन वो इस बात से अनजान रहते हैं की यह भवानी द्वारा नियंत्रित है।

अपने प्रारंभिक विरोध के बावजूद, वह किशोर केंद्र जाने का फैसला करता है और अपनी नई नौकरी को गंभीरता से नहीं लेता है। अपने दूसरे दिन, वह केंद्र के दो बच्चों को हॉल में फांसी पर लटका देख चौंक जाता है। इन दोनों की हत्या भवानी ने सिर्फ़ इसलिए कर दी थी कि वो दोनों भवानी द्वारा किए गए एक हत्या का आरोप ख़ुद के ऊपर नही लेकर आत्मसमर्पण नही कर रहे थे।

जेडी को स्थानीय पुलिस स्टेशन में पूछताछ के लिए ले जाया जाता है, जहां वह अपने कॉलेज के एक जूनियर प्रोफेसर चारुलता प्रसाद से जानता है कि किशोर केंद्र में क्या चल रहा है। जेडी को यह भी पता चला कि चारु एक गैर-सरकारी संगठन के स्वयंसेवक हैं, जिन्हें आर्थिक रूप से किशोर गृह से संबंधित एक मामले का समर्थन करने के लिए शिक्षण लेना था और वह वह थी जिसने किशोर गृह में पढ़ाने के लिए हस्ताक्षर करने के लिए अपने हस्ताक्षर किए थे, छात्रों के हितों को समझने और उन्हें सुधारने में केवल एक ही सक्षम है।

जब वह दो बच्चों से अपनी स्थिति के बारे में बता रहा होता है और अपनी मदद की गुहार लगाता है, तो भवानी के आदमी अंततः पुलिस स्टेशन पहुंचते हैं और जेडी को शहर से बाहर निकालने की कोशिश करते हैं, जेडी ने उन्हें पीट कर भगा दिया और भवानी को चेतावनी दी कि वह बच्चों की हत्या का बदला लेगा।

Master Movie की आगे की Story कुछ इस प्रकार है : जेडी खुद को सुधारता है, अपने सभी शराब की बोतलों को डंप करता है और एक मेक-ओवर प्राप्त करता है। वह शराबमुक्ति केंद्र के कार्यकर्ताओं से किशोर केंद्र में जाने के बारे में सीखता है, उनके समर्थन के साथ-साथ अपने छात्रों और चारु की मदद से, वह केंद्र में सुधार करने का प्रयास करना शुरू कर देता है।

जल्द ही चारु और जेडी के बीच प्यार पनपता है, जबकि वह यह भी जानती है कि जेडी एक अनाथ है, जिसका दर्दनाक अतीत उसे शराबी और छात्रों के प्रति उसके बाद के पक्षपात का कारण बना। वह एक स्थानीय मजिस्ट्रेट के सामने केंद्र में जाने वाले बच्चों के बयानों को एकत्र करने के सबूतों को प्रस्तुत करने का एक असफल प्रयास करता है, लेकिन भवानी के लोग Audio क्लिप को नष्ट कर देते हैं।

जेडी को पता चलता है कि भवानी का संगठन अपने आदमियों की पहचान करने के लिए एक हैंडमार्क का इस्तेमाल करता है और इसके बाद वह शहर भर में भवानी के धंधों में काम करने वाले उसी हैंडमार्क वाले पुरुषों की पिटाई करता है। वह भवानी के स्थान पर भी हमला करता है और भवानी के आदमियों को चेतावनी देता है, लेकिन जेडी अनजाने में जिसे भवानी का आदमी समझ कर उसके गले में चाकू लगाया था, असल में वह भवानी ही था।

अगले दिन, भवानी जवाबी कार्रवाई करता है और जेडी के एक दोस्त की हत्या करता है। जेडी को दर्द में टूटने और प्रतिशोध लेने के लिए छोड़ देता है। जेडी जब किशोर केंद्र से दूर होता है, तो भवानी के लोग और दास छात्रों को एक कंटेनर में दूर ले जाते हैं और बच्चों की जगह अपने ही कुछ लोगों को वहाँ छोड़ देते हैं।

जेडी, भवानी के लोगों का सामना करते हैं और उन्हें अपने अधर्म का एहसास कराते हैं और इसके बाद उसे पता चलता है कि सीमा पार बच्चों कि तस्करी हो रही है। वह सफलतापूर्वक बच्चों को बचा लेता है और दास को यह समझाने में भी कामयाब होता है कि बच्चों की ज़िम्मेदारी के साथ देख-भाल करना और अगर उसे पता चला की बच्चे किशोर गृह में नही हैं, तो वह उसे (दास) को मार डालेगा।

इसके बाद जेडी, भवानी के मांस कारखाने में गया है और अंत में अपने दोस्त और बच्चों की मौत का बदला लेने और अन्य बच्चों की सुरक्षा के लिए जेडी भवानी को जान से मार देता है। इसके बाद किशोर गृह को सरकार और जेडी द्वारा बंद कर दिया जाता है, साथ ही सुधर चुके दास और उनके लोगों को उनकी सज़ा के लिए जेल भेज दिया जाता है।