Defence News in Hindi

2023 में भारतीय नौसेना को रूस से मिलेगा पहला अजेय स्टील्थ युद्धपोत – Defence News in Hindi

सोशल मीडिया में शेयर करें

Defence News in Hindi : रूस के यूनाइटेड शिपबिल्डिंग कॉरपोरेशन (USC) के प्रमुख ने अपने बयान में कहा कि – रूस द्वारा भारत के लिए बनाए जा रहे क्रिवाक क्लास के दो स्टील्थ फ्रिगेट्स में से पहला 2023 के मध्य में भारत भेज दिया जाएगा।

Army 2021 Exhibition में यूएससी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एलेक्सी राखमनोव ने कहा – कोरोना की वजह से हमें निर्माण के कुछ चरणों को पूरा करने में करीब आठ महीने की देरी हुई है। पहला जहाज 2023 के मध्य में भारत भेजने की उम्मीद हम कर रहे हैं।

Defence News in Hindi - Russia will deliver first stealth warship to India in 2023
Defence News in Hindi – Russia will deliver first stealth warship to India in 2023

अक्टूबर 2016 में, भारत और रूस ने चार क्रिवाक श्रेणी जिसे भारत में तलवार श्रेणी के स्टील्थ फ्रिगेट्स कहा जाता है के लिए एक अंतर-सरकारी समझौते (IGA) पर हस्ताक्षर किए थे। इनमे से दो सीधे रूस से खरीदे जाएंगे और दो गोवा शिपयार्ड लिमिटेड (GSL) द्वारा बनाए जाएंगे। दो सरकारों के बीच इस सीधी खरीद के लिए 1 अरब डॉलर का करार हुआ था।

गोवा शिपयार्ड लिमिटेड (GSL) में निर्माण पर, श्री राखमनोव ने कहा कि वे जल्द ही उपकरण और निर्माण की विशिष्टता से परिचित होने के लिए यहाँ के शिपयार्ड में दो फ्रिगेट के चल रहे निर्माण प्रक्रिया को देखने के लिए भारतीय तकनीशियनों को आमंत्रित करेंगे। उन्होंने कहा कि दूसरे चरण में जीएसएल में प्रौद्योगिकी हस्तांतरण सहित दूसरे सभी काम किए जाएँगे।

श्री रखमनोव ने कहा कि भारतीय सेना और रूसी सेना दोनों द्वारा संचालित करने के लिए ये फ्रिगेट बनाए जा रहे थे। रूस में यंतर शिपयार्ड में दो युद्धपोतों के बुनियादी ढांचे पहले से ही तैयार हैं जो अब पूरे हो रहे हैं।

इसे भी पढ़ें :   लॉकहीड मार्टिन को भारतीय वायु सेना से C-130J सुपर हरक्यूलिस के लिए 5 साल का कॉंट्रैक्ट मिला - Defence News in Hindi

जीएसएल में बनने वाले पहले जहाज की डिलिवरी डेट जनवरी में और दूसरे जहाज के लिए इस साल जून में रखी गई थी। Keel laying जहाज निर्माण में एक प्रमुख मील का पत्थर है, जो निर्माण प्रक्रिया की औपचारिक शुरुआत का प्रतीक है।

भारतीय नौसेना ने हाल ही में कहा था कि इनमें से पहला जहाज 2026 में और दूसरा छह महीने बाद दिया जाएगा।

नवंबर 2018 में, GSL ने रूस के रोसोबोरोन एक्सपोर्ट के साथ स्थानीय रूप से दो फ्रिगेट्स के निर्माण के लिए सामग्री, डिज़ाइन और विशेषज्ञ सहायता के लिए $500 मिलियन के सौदे पर हस्ताक्षर किए थे और जनवरी 2019 में रक्षा मंत्रालय और GSL के बीच अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए थे।

जहाजों के इंजनों की आपूर्ति यूक्रेन के ज़ोर्या नैशप्रोएक्ट द्वारा की जाती है। चार गैस टरबाइन इंजन, गियर बॉक्स और विशेषज्ञ सहायता पर प्रति जहाज लगभग 50 मिलियन डॉलर खर्च होंगे।

भारतीय नौसेना वर्तमान में दो अलग-अलग बैचों में खरीदे गए लगभग 4,000 टन वजन के 6 क्रिवाक श्रेणी (तलवार श्रेणी) के युद्धपोतों का संचालन करती है।

देश-दुनिया के डिफ़ेन्स समाचार पढ़ने के लिए Times of MP के Defence Forum ‘Defence News in Hindi‘ में विज़िट करें।

Defence News in Hindi Web Title : Russia will deliver the first stealth warship to India in mid-2023.


सोशल मीडिया में शेयर करें

Leave a Reply

You cannot copy content of this page
error: Content is protected !!