सतना जिला कब बना – सतना जिले का गठन कब किया गया था?

सतना जिला का गठन 1 नवंबर 1956 को किया गया था। उस समय यह मध्य प्रदेश राज्य के 43 जिलों में से एक था। सतना जिला मध्य प्रदेश के दक्षिण-पूर्वी भाग में स्थित है और इसकी सीमा उत्तर में रीवा, दक्षिण में छत्तीसगढ़, पूर्व में उत्तर प्रदेश और पश्चिम में सीधी जिले से लगती है। सतना जिले का मुख्यालय सतना शहर है, जो सतना नदी के किनारे बसा हुआ है।

सतना जिले की स्थापना से पहले, यह क्षेत्र रीवा रियासत के अधीन था। 1947 में भारत की स्वतंत्रता के बाद, रीवा रियासत को भारतीय संघ में शामिल कर लिया गया और इसे मध्य प्रदेश राज्य का एक हिस्सा बनाया गया। 1956 में, मध्य प्रदेश राज्य के निर्माण के बाद, सतना जिले का गठन किया गया।

सतना ज़िले का क्षेत्रफल 7,502 वर्ग किलोमीटर है। सतना ज़िले में 11 तहसील और 7 नगरपालिकाएं हैं। सतना ज़िले की जनसंख्या 2011 की जनगणना के अनुसार 22,28,935 थी।

सतना जिला एक प्रमुख कृषि क्षेत्र है और इसकी अर्थव्यवस्था कृषि पर आधारित है। जिले में धान, गेहूं, मक्का, सोयाबीन, तिलहन और दलहन की खेती की जाती है। सतना जिले में खनिज संसाधनों की भी प्रचुरता है और यहां से कोयला, चूना पत्थर, लौह अयस्क और अन्य खनिज पदार्थों का उत्खनन किया जाता है।

31 मई 1921 को सतना में नगर पालिका अस्तित्व में आयी। यह महत्वपूर्ण कदम रीवा राज्य नगरपालिका और स्वच्छता अधिनियम 1921 के अनुसार उठाया गया था। 1964 में फरवरी महीने से पहले, सतना नगर पालिका में कुल 6 वार्ड शामिल थे, जिनमें से प्रत्येक प्रशासनिक संरचना में एक आवश्यक भूमिका निभाता था।

आशा करते हैं कि सतना जिला कब बना था कि यह जानकारी आपको पसंद आएगी। सतना जिले का गठन कब किया गया था? यानि सतना जिले की स्थापना कब की गई थी? जैसे सभी सवालों के जवाब इस लेख में आपको मिल जाएँगे।