सतना का पुराना नाम क्या था? Satna Ka Purana Naam

सतना का पुराना नाम “सतनागढ़” था। सतनागढ़ का उल्लेख महाभारत में भी मिलता है। महाभारत के अनुसार, सतनागढ़ एक प्राचीन बौद्ध तीर्थस्थल था। यहां पर एक विशाल बौद्ध मठ था, जो बौद्ध धर्म के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता था। सतनागढ़ के पास ही भरहुत नामक एक प्राचीन बौद्ध स्थल भी है, जो विश्व धरोहर स्थल घोषित है।

सतनागढ़ का नाम सतनाग से लिया गया है, जो एक नागवंशी राजा थे। सतनाग एक शक्तिशाली राजा थे और उन्होंने सतनागढ़ के आसपास के क्षेत्रों पर शासन किया। सतनाग शब्द का अर्थ है “सत्तर नागों का स्थान”। सतनाग नाम इस क्षेत्र में स्थित 70 प्राचीन नाग मंदिरों के कारण पड़ा था। इन मंदिरों का निर्माण 6वीं से 8वीं शताब्दी के बीच हुआ था। सतनागढ़ के राजाओं ने बौद्ध धर्म को संरक्षण दिया और कई बौद्ध मठों का निर्माण कराया।

सतनागढ़ का उल्लेख 10वीं शताब्दी के अभिलेखों में मिलता है। सतनागढ़ का निर्माण बघेल राजपूतों ने किया था, जो गुजरात से आकर यहां बस गए थे। सतनागढ़ बघेल राजपूतों की एक प्रमुख रियासत थी।

11वीं शताब्दी में, सतनागढ़ पर बघेल राजपूतों ने अधिकार कर लिया। बघेल राजपूतों ने सतनागढ़ को अपनी राजधानी बनाया। 18वीं शताब्दी में, सतनागढ़ रीवा रियासत के अधीन हो गया। 19वीं शताब्दी में, अंग्रेजों ने रीवा रियासत को संधि राज्य बना दिया। भारत की स्वतंत्रता के बाद, सन 1956 में सतनागढ़ रीवा राज्य से अलग होकर मध्य प्रदेश राज्य का एक ज़िला बन गया और इसका नाम बदलकर “सतना” कर दिया। सतना का नाम “सतनागढ़” से “सतना” इसलिए बदला गया क्योंकि “सतनागढ़” का उच्चारण करना कठिन था। सतना का अर्थ है “सत्य का स्थान”।

वर्तमान में, सतना मध्य प्रदेश राज्य का एक प्रमुख जिला है। सतना जिले में कई ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल हैं, जिनमें भरहुत, चित्रकूट, और मैहर शामिल हैं।

आज के समय में सतना एक ऐतिहासिक और धार्मिक पर्यटन स्थल है। यहां प्रतिवर्ष लाखों श्रद्धालु आते हैं। सतना जिले में कई ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • भरहुत स्तूप
  • चित्रकूट धाम
  • मैहर मंदिर
  • रामपुर बघेलान का किला
  • उचेहरा का किला
  • रामवन और तुलसी संग्रहालय

सतना जिले की अर्थव्यवस्था कृषि, उद्योग और पर्यटन पर आधारित है। सतना जिले में चावल, मक्का, गेहूं, गन्ना, और तिलहन की खेती की जाती है। सतना जिले में सीमेंट और चूना जैसे उद्योग हैं।

आशा है कि “सतना का पुराना नाम क्या था” के बारे में आपको सही जानकारी मिल गई होगी। Satna Ka Purana Naam Kya Tha की जानकारी देने वाले इस लेख को सोशल मीडिया में शेयर करें, ताकि आपके जानने वालों को भी सतना के पुराने नाम की जानकारी हो जाए।