Advertisement

Satna News (सतना समाचार) रिपोर्ट

Kotar News (कोटर समाचार) :- सतना जिले के कोटर तहसील के अंतर्गत क़रीब 29 सार्वजनिक राशन की दुकानें संचालित होती हैं। किंतु इन दुकानों से हितग्राहियों को राशन नही मिलता है।

इस संबंध में जब मीडिया ने स्थानीय लोगों से बात कि तो जो जानकारी सामने आई वो चौकाने वाली थी। कोटर तहसील के स्थानीय लोगों का कहना है कि पात्र लाभार्थियों को देने के लिए सरकार की तरफ़ से हर महीने इन दुकानों में मिट्टी का तेल आता है, लेकिन लोगों को वितरित नही किया जाता है।

Advertisement
Satna News – Kerosene is not available to the beneficiaries in Kotar

थानीय लोगों का आरोप है कि कोटेदार (सेल्समैन) यह कह कर लोगों को लौटा देता है कि अभी तेल नही आया है।

लोगों ने ज़िला कलेक्टर से कार्यवाही करने की माँग की है। अब आगे देखना है कि कलेक्टर साहब क्या करते हैं? क्या लोगों को उनका हक़ मिल सकता है? या फिर सेल्समैन सब हज़म कर जाएगा और शासन-प्रशासन आँख बंद किए सब देखता रहेगा।

दूसरी बात ये भी है कि जब तहसील की इन दुकानों में हर महीने तेल आता है, तो ऐसा तो नही है, कि स्थानीय लोग टैंकर को नही देखते होंगे। तेल तो टैंकर से ही आएगा, तो ऐसे में लोग पहले शिकायत क्यों नही किए। क्या ये लोग इतने अनपढ़ हैं कि शिकायत भी नही कर सकते हैं।

Advertisement

ख़ैर जो भी हो लेकिन आज के समय में ग्रामीण क्षेत्रों में सार्वजनिक राशन की दुकानों में मनमानी आम बात हो चुकी है, जिसे रोका जाना ज़रूरी है। इसके लिए इन दुकानों के सेल्समैन को कड़ी सज़ा देकर मिशाल क़ायम करने की ज़रूरत है।

Web Title : Kotar Satna NewsKerosene is not available to the beneficiaries in Kotar Tehseel Satna.

Advertisement
Advertisement