कोरोना महामारी में Patient Zero को खोजना महत्वपूर्ण क्यों है? Patient Zero का क्या मतलब है जानिए

क्या आपने Ebola के बारे में सुना है, जरूर सुना होगा, है ना? इबोला वायरस रोग (EVD) मनुष्यों में पाई जाने वाली एक गंभीर और घातक बीमारी है। EVD का पहला व्यापक प्रसार मध्य अफ्रीकी वर्षा वनों के गांवों में 2014 में हुआ था। Ebola महामारी नियंत्रित होने से पहले, इसकी वजह से 11,000 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी।

What is patient zero and why it is Important
Patient Zero, Pic Source – Pixabay : Free for commercial use

What is patient zero and why it is Important

जब भी इस तरह के महामारी प्रकोप की पहचान की जाती है, तो संबंधित सरकार और चिकित्सा अधिकारी जो पहला काम करते हैं, वो है उस पहले इंसान को खोजना जिसमें ऐसी बीमारी पहली बार आई थी

पश्चिमी अफ्रीका में 2014 के इबोला प्रकोप में, Patient Zero यानी पहला रोगी एक बच्चा पाया गया था। जो कि एमी ओआमूनो (Emile Ouamouno) नाम का एक 2 साल का लड़का था, जो दक्षिणी गिन्नी (southern Guinea) के एक वर्षा वन गांव में रहता था। द न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ताओं के अनुसार, यह छोटा लड़का 2014 के Ebola प्रकोप में इबोला वायरस से संक्रमित होने वाला पहला व्यक्ति था।

लेकिन Patient Zero की पहचान करना क्यों महत्वपूर्ण है? आइए आपको बताते हैं।

Patient Zero क्या है ?

किसी भी महामारी के शुरू होने पर जो पहला संक्रमित व्यक्ति होता है, उसे ही Patient Zero कहा जाता है।

यह ध्यान रखना दिलचस्प है कि Patient Zero शब्द वास्तव में कुछ शोधकर्ता के मनमाने नामाकरण का परिणाम है। यह माना जाता है कि एक शोधकर्ता के पत्र में “O” शब्द को 1980 के दशक की शुरुआत में पहले एचआईवी रोगी के संदर्भ में शून्य के रूप में गलत समझा गया था। तब से शब्द Patient Zero का व्यापक रूप से उपयोग किया जाने लगा।

एक बीमारी, महामारी या महामारी के प्रकोप के संदर्भ में, Patient Zero शब्द आमतौर पर रोग के पहले मामले को संदर्भित करता है। दूसरे शब्दों में, बीमारी से संक्रमित होने वाला पहला व्यक्ति। किसी बीमारी के पहले संक्रमित की पहचान का निर्धारण, किसी भी गंभीर महामारी के नियंत्रण और रोकथाम का मार्ग प्रशस्त करता है।

कहने की जरूरत नहीं है, Patient Zero को खोजने के लिए सावधानीपूर्वक और कठिन जासूसी के काम की आवश्यकता होती है। हेल्थकेयर श्रमिकों और चिकित्सा शोधकर्ताओं को उस स्थान पर मामले की खोजबीन के लिए जाना पड़ता है, जहां रोग ने अपनी पहली उपस्थिति बनाई थी।

महामारी का नियंत्रण

जब एक बार Patient Zero की पहचान कर ली जाती है, तो शोधकर्ता उन सभी स्थानों का नक्शा बना सकते हैं, बीमारी के दौरान जहाँ वह गया था और जिनके साथ वह शारीरिक संपर्क में रहा है।

मूल रूप से, Patient Zero यह यह निर्धारित करने में मदद करता है कि एक विशेष बीमारी जनता के बीच कैसे फैलती है। क्या यह हवा से फैलती है या फिर यह पर्यावरण में रहता है या केवल संक्रमितों के भीतर ? क्या यह मेजबान संक्रमितों के बाहर जीवित रह सकता है? यदि हाँ, तो कब तक? यह सब जानकारी महामारी के शुरूआती चरण में ही Patient Zero से प्राप्त की जा सकती है।

जब शोधकर्ताओं के पास यह जानकारी होती है, तो वे महामारी की रोकथाम की दिशा में सही तरीक़े से काम कर सकते हैं और महामारी को अधिक फैलने से रोका जा सकता है।

महामारी का निवारण Patient Zero से

यह एक महामारी से निपटने का दूसरा महत्वपूर्ण पहलू है। जब आप एक विशेष महामारी के लिए Patient Zero की पहचान करते हैं, तो आप उसके जीवन को देख सकते हैं, अर्थात, उसने क्या किया, उसका दैनिक जीवन कैसा था, उसने क्या खाया, वे किस वातावरण में रहता था और वे किन जानवरों के संपर्क में आया था।

फिर आप जानवरों के पहले संक्रमित की भी पहचान कर सकते हैं और उन जानवरों को इकट्ठा कर सकते हैं और जांच कर सकते हैं कि क्या वह वायरस वास्तव में उनको संक्रमित किया है या नही?

यदि किसी जानवर में वायरस है, तो आप सार्वजनिक रूप से चेतावनी दे सकते हैं कि उक्त महामारी का वायरस जानवरों को भी संक्रमित कर सकता है और फिर जानवरों के इलाज के लिए काम किया जा सकता है।

इसके अलावा, उस संक्रमित प्रजाति में महामारी के प्रकोपों ​​का अध्ययन करने से हमें इस बात का अंदाजा हो सकता है कि भविष्य में उन्हें और कौन से रोग हो सकते हैं, जो भविष्य में किसी और दूसरी महामारी के प्रकोप की स्थिति के खिलाफ हमारी तैयारी में मदद करते हैं।

Read More : Dogs chocolate Poisoning – क्या कुत्तों के लिए चॉकलेट जहरीला होता है? कुत्तों को चॉकलेट नही खिलानी चाहिए क्यों, जानिए

Read More : क्या कम्पास (Compass) और जीपीएस (GPS) पृथ्वी के ध्रुवों के पास सामान्य रूप से काम करते हैं ?

कोरोना महामारी में चीन की करतूत

लेकिन कोरोना चीन से शुरू हुआ था और चीन ने Patient Zero के बारे में आज तक किसी को कुछ नही बताया, ना ही Patient Zero के बारे में दुनिया को कोई जानकारी है। शायद चीन से उस Patient Zero को मरवा दिया हो। ऐसा लगता है की कोरोना महामारी चीन की सोची समझी चाल थी।

Read More : Project A119 – अमेरिका की चांद को परमाणु बम से उड़ाने की गुप्त योजना का ख़ुलासा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *